Baglamukhi Mata Chalisa In Hindi With Benefits | Chalisa

Baglamukhi Mata Chalisa In Hindi With Benefits | बागलामुखी मात चालीसा हिंदी में

Baglamukhi Mata Chalisa In Hindi With Benefits | Chalisa | ProHinduism.com

बागलामुखी मात चालीसा दोहा

सिर नवाइ बागलामुखी, लिखूं चालीसा आज।।
कृपा करहु मोपर सदा, पूरन हो मम काज।।

चौपाई जय जय जय श्री बागला मात। आदिशक्ति सब जग की त्राता।।
बागला सम तब आनन मात। एहि ते भयउ नाम विख्याता।।

शशि ललाट कुण्डल छवि न्यारी। असतुति करहिं देव नर-नारी।।
पीतवसन तन पर तव राजै। हाथहिं मुद्गर गदा विराजै।।

तीन नयन गल चम्पक माला। अमित तेज प्रकटत है भाला।।
रत्न-जटित सिंहासन सोहै।शोभा निरखि सकल जन मोहै।।

आसन पीतवर्ण महारानी। भक्तन की तुम हो वरदानी।।
पीताभूषण पीतहिं चन्दन। सुर नर नाग करत सब वन्दन।।

एहि विधि ध्यान हृदय में राखै। वेद पुराण संत अस भाखै।।
अब पूजा विधि करौं प्रकाशा। जाके किये होत दुख-नाशा।।

प्रथमहिं पीत ध्वजा फहरावै। पीतवसन देवी पहिरावै।।
कुंकुम अक्षत मोदक बेसन। अबिर गुलाल सुपारी चन्दन।।

माल्य हरिद्रा अरु फल पाना। सबहिं चढ़इ धरै उर ध्याना।।
धूप दीप कर्पूर की बाती। प्रेम-सहित तब करै आरती।।

अस्तुति करै हाथ दोउ जोरे। पुरवहु मातु मनोरथ मोरे।।
मातु भगति तब सब सुख खानी। करहुं कृपा मोपर जनजानी।।

त्रिविध ताप सब दुख नशावहु। तिमिर मिटाकर ज्ञान बढ़ावहु।।
बार-बार मैं बिनवहुं तोहीं। अविरल भगति ज्ञान दो मोहीं।।

पूजनांत में हवन करावै। सा नर मनवांछित फल पावै।।
सर्षप होम करै जो कोई। ताके वश सचराचर होई।।

तिल तण्डुल संग क्षीर मिरावै। भक्ति प्रेम से हवन करावै।।
दुख दरिद्र व्यापै नहिं सोई। निश्चय सुख-सम्पत्ति सब होई।।

फूल अशोक हवन जो करई। ताके गृह सुख-सम्पत्ति भरई।।
फल सेमर का होम करीजै। निश्चय वाको रिपु सब छीजै।।

गुग्गुल घृत होमै जो कोई। तेहि के वश में राजा होई।।
गुग्गुल तिल संग होम करावै। ताको सकल बंध कट जावै।।

बीलाक्षर का पाठ जो करहीं। बीज मंत्र तुम्हरो उच्चरहीं।।
एक मास निशि जो कर जापा। तेहि कर मिटत सकल संतापा।।

घर की शुद्ध भूमि जहं होई। साध्का जाप करै तहं सोई।
सेइ इच्छित फल निश्चय पावै। यामै नहिं कदु संशय लावै।।

अथवा तीर नदी के जाई। साधक जाप करै मन लाई।।
दस सहस्र जप करै जो कोई। सक काज तेहि कर सिधि होई।।

जाप करै जो लक्षहिं बारा। ताकर होय सुयशविस्तारा।।
जो तव नाम जपै मन लाई। अल्पकाल महं रिपुहिं नसाई।।

सप्तरात्रि जो पापहिं नामा। वाको पूरन हो सब कामा।।
नव दिन जाप करे जो कोई। व्याधि रहित ताकर तन होई।।

ध्यान करै जो बन्ध्या नारी। पावै पुत्रादिक फल चारी।।
प्रातः सायं अरु मध्याना। धरे ध्यान होवैकल्याना।।

कहं लगि महिमा कहौं तिहारी। नाम सदा शुभ मंगलकारी।।
पाठ करै जो नित्या चालीसा।। तेहि पर कृपा करहिं गौरीशा।।

दोहा

सन्तशरण को तनय हूं, कुलपति मिश्र सुनाम।
हरिद्वार मण्डल बसूं , धाम हरिपुर ग्राम।।

उन्नीस सौ पिचानबे सन् की, श्रावण शुक्ला मास।
चालीसा रचना कियौ, तव चरणन को दास।।

Baglamukhi Chalisa Jaap Vidhi In Hindi

Agar aap Baglamukhi Chalisa Jaap se labh uthana chahte hai ton aapko Baglamukhi Chalisa ka Jaap Subah Uthkar, Naha Dhokar Pooja ke sthan pe jakr, Baglamukhi mata ko dhyan mein rakhte huye kren. Is Jaap ko Pritidin Do Baar ek bar subah evm ek baar sham ko krne se aapke kasht door ho jayenge.

Baglamukhi Chalisa Jaap Benefits (Labh) In Hindi

Baglamukhi Chalisa ke nit jaap se kasht door hote hai. Ghar mein dhan ki varsha hoti hai. Swasth Sambhandi kathinaiyon se mukti milti hai. Jeevan Sukhmay vyateet hone lgta hai.

Please Read
If You Find this Post Worth Sharing, Share this With Your Friends & Family and Support ProHinduism.com. If you Find any Amendments or Corrections in this Post then Click Here. Your Comments are Welcome.
You May Also Read
About Author
Rohit Manhas | Founder, C.E.O.
Rohit Manhas
B.Tech Chemical Engineering, National Institute of Technology, Srinagar
Passionate Blogger, S.E.O. Expert.
Founder, C.E.O. BhajanAarti.com
Founder, C.E.O. ProHinduism.com
Find More with ProHinduism